परिवर्तनशीलता प्रकृति का शास्‍वत नियम है, क्रिया की प्रक्रिया में मानव जीवन का चिरंतन इतिहास अभिव्‍यंजित है।

गुरुवार, 28 जुलाई 2016

लैटर पोस्ट कभी मत करना


वक़्त ने कमाल किया, उनसे हमें मिला दिया
मुलाकात हुई मगर, अफसोस की बात थोड़ी हुई
फिर मिलने का वादा कर, हमसे वो विदा हुई
उधर उनकी हालत खराब, इधर अपनी नींद खराब हुई
जब रहा न गया तो हमने, उन्हें एक लैटर  पोस्ट किया
मिलने के लिए उन्हें, एक रेस्टोरेन्ट में प्रपोज किया
अगले दिन जब हमने, रेस्टोरेन्ट में उछल कर प्रवेश किया
सामने देख उनके बाप को, दिल ने रूकने का संकेत किया
उनके बाप की त्यौरी, हमें देख चढने लगी
हाथ में पकड़ी छड़ी, हमारी तरफ बढ़ने लगी
फिर जो हालत हुई यारो, वो बताई नहीं जाती
वो मार पड़ी यारो, भुलाई नहीं जाती
मेरी मानो तो प्यार, प्यार जरा कम ही करना
कर भी लिया है,  तो ठीक है
मगर लैटर पोस्ट कभी मत करना। 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें